Home » 2010 » August

Monthly Archives: August 2010

सोलन में स्वाइन फ्लू की दस्तक

सोलन जिला में एक बार फिर स्वाइन फ्लू का खौफ लोगों में घर करने लगा है। बरोटीवाला क्षेत्र के युवक की स्वाइन फ्लू से मौत और सोलन के कथेड़ की एक महिला में इस रोग की पुष्टि के बाद लोगों में पिछले साल की याद ताजा हो आई है। स्वास्थ्य विभाग अभी भी इसे गंभीरता से नहीं ले रहा है। एहतियात के तौर पर सोलन अस्पताल में स्वाइन फ्लू के रोगियों के लिए आइसोलेशन वार्ड तो बनाया गया, लेकिन अभी भी डॉक्टरों और अन्य स्टॉफ के पास मास्क नहीं है। हालांकि रोगी के सम्पर्क में आए लोगों को विभाग जरूर कॉन्टेक्ट ट्रीटमेंट दे रहा है। सोलन, बद्दी, बरोटीवाला, परवाणू और नालागढ़ से लोगों का आना-जाना बाहरी प्रदेशों में लगा रहता है। पिछले वर्ष भी स्वाइन फ्लू ने जिला में सबसे ज्यादा कहर बरपाया था। जिला में स्वाइन फ्लू से आधा दर्जन से ज्यादा लोगों की मौत हो गई थी, जबकि प्रदेश में 16 लोग इस बीमारी से अपनी जान गंवा बैठे। सोलन अस्पताल में कथेड़ की एक महिला में इस रोग के लक्षण की पुष्टि होने के बाद ही आइसोलेशन वार्ड तैयार किया गया। स्वाइन फ्लू के लिए संवेदनशील क्षेत्र होने के बावजूद सोलन अस्पताल में स्वाइन फ्लू के टेस्ट का प्रावधान नहीं है। डॉक्टर भी तब तक मरीज को टेमी फ्लू नहीं दे सकते जब तक उनका टेस्ट पॉजीटिव नहीं आता।

Advertisements

डायल 08894692269 बिफोर यू डाई

शिमला. आज मां—बाप की बच्चों से इतनी अपेक्षाएं बढ़ गई हैं कि वे खुद के अधूरे सपनों को भी उनके माध्यम से ही पूरा होते देखना चाहते हैं। इसके लिए वे अपने ही लाड़लों पर इतना असहनीय मानसिक दबाव डाल रहे हैं कि बच्चे आत्महत्या जैसे कदम उठाने को मजबूर हो रहे हैं। यह कोई कहानी नहीं राजधानी शिमला की दो छात्राओं पर बीती अविश्वसनीय मगर सत्य घटना है।

छात्राओं का कहना है कि उन पर मां—बाप पढ़ाई को लेकर आए दिन बहुत ज्यादा दबाव बना रहे थे, जिसे वे सहन नहीं कर पाए और आत्महत्या करने की ठान ली। 14—15 साल की इन लड़कियों ने मरने से पहले येस (यूथ एनलाइटनिंग द सोसाइटी) के पास जाने का फैसला किया ताकि वे आपबीती उन्हें बता सकं। सोसाइटी ने जब छात्राओं से आत्महत्या के प्रयास के पीछे कारण पूछे तो वे भी जवाब सुनकर कुछ समय के लिए दंग रह गए।

उन्होंने कहा…पढ़ाई को लेकर हम पर मां—बाप व टीचर्ज द्वारा हद से ज्यादा दबाव बनाया जा रहा था। सोसायटी व रिश्तेदारों के बच्चों से आए दिन तुलना कर उन्हें नीचा दिखाया जाता। अपमान के चलते उन्हें आत्महत्या का रास्ता आसान लग रहा है। सोसाइटी के अध्यक्ष आकर्षण चौहान ने कहा कि उन्हें सप्ताह में उनके मोबाइल फोन पर चार—पांच फोन लगातार आ रहे हैं जिसमें बच्चे इसी तरह के दबावों को झेल रहे हैं। उन्होंने कहा कि दोनों छात्राओं व मां-बाप को काउंसिल कर उन्हें उनके परिजनों को सौंप दिया है।

चौहान ने कहा कि बच्चों को सही काउंसलिंग मिले इसके लिए वे पांच सिंतबर से शिमला में एक हेल्पलाइन सेवा आरंभ करने जा रहे हैं। इसका नंबर 08894692269 है, उन्होंने कहा कि उन्हें फिलहाल टोल फ्री नंबर नहीं मिला है। हेल्पलाइन का नाम डायल बिफोर यू डाई विचाराधीन है।

राजधानी के विभिन्न स्कूलों में येस ने स्कूल ग्रुप तैयार करने का फैसला किया है। पढ़ाई के बोझ को कम करने के और मानसिक तनाव को दूर करने के उद्देश्य से आरंभ किए जा रहे इन ग्रुप्स में स्कूली बच्चे ही पदाधिकारी होंगे और वही सदस्य भी। मनोरंजन की विभिन्न गतिविधियों के अलावा ये ग्रुप्स मेंटल हेल्थ प्रोग्राम भी आयोजित करेंगे। सेंट थॉमस स्कूल में शनिवार से इस ग्रुप ने काम करना आरंभ कर दिया है। चैप्सली, ऑकलेंड हॉउस स्कूलों में इनका गठन अंतिम चरण पर है।

चार मामले ऐसे आए जिन्होंने जीने की उम्मीद छोड़ दी और रात दिन नशे में पड़े रहते थे। काउंसलिंग के बाद चारों युवा अभिभावकों के साथ सफल जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

मनोचिकित्सक छात्र देंगे सहयोग

प्रदेश विश्वविद्यालय के मनोचिकित्सक विभाग के छात्र येस संस्था को काउंसलिंग में सहयोग देंगे। संस्था के अनुसार काउंसलिंग के बाद छात्रों को सर्टिफिकेट भी दिए जाएंगे। प्रारंभिक स्तर की काउंसलिग के बाद बच्चों को आईजीएमसी में मनोचिकित्सक विभाग के प्रमुख डॉ. रवि शर्मा के समक्ष बच्चों को ले जाकर उन्हें जीने की नई राह दिखाई जाएगी।

Farmers rue exploitation at traders’ hands

Shimla, August 30
Hundreds of vegetable growers under the banner of the Himachal Kisan Sabha (HKS) today staged a protest at the sabzi mandi in Dhalli against exploitation and unfair treatment being meted out to them by arhtiyas (traders).

Led by state president of the HKS Kuldeep Tanwar, the villagers met Secretary, Agriculture, Ram Subhag Singh, who is also the chairman of the State Agriculture Marketing Board, to bring irregularities to his notice.

Tanwar said the farmers who were suffering on the account of inclement weather conditions like hailstorm and damage by wild animals were exploited by the traders at the sabzi mandi in Dhalli where they bring their produce. “In the absence of electronic weighing machine, the agents not only weight the produce less by a few kilos but also add 2 kg as weight of the sack, thereby causing loss to the farmers,” he added.

He said despite the fact that farmers carry the produce right up to the weighing table, a sum of Rs 7 per bag was deducted by the traders. “Exploitation and irregularities being indulged in by the traders cause not only considerable financial loss to the growers but also mental agony,” he rued.

The villagers warned that in case the government does not provide them protection from such exploitative tactics, they will be forced to launch an agitation.

रैगिंग: आरोपियों को सजा, फै सले से मां नाखुश

धर्मशाला. डिग्री कॉलेज पालमपुर में सात साल पहले रैगिंग के विरोध के चलते हुए हत्या के केस में अतिरिक्त जिला सत्र न्यायालय ने पांच आरोपी छात्रों में से चार को दोषी करार देते हुए सोमवार को सात-सात साल की कैद और 25-25 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। अतिरिक्त जिला सत्र न्यायाधीश राजीव भारद्वाज ने अभियोजन पक्ष और बचाव पक्ष की दलीलें सुनने के बाद यह फैसला लिया।

जिला उपन्यायवादी कुलदीप सेन ने बताया कि 20 अगस्त 2003 को पालमपुर कॉलेज में देर शाम गौरव सूद, सौरभ सूद, विकास चौहान, सचिन और संजीव जूनियर छात्रों की रैगिंग कर कर रहे थे। तभी पालमपुर के अमित ठाकुर, मुनीष वालिया और अजय डोहरू ने कॉलेज पहुंचकर रैगिंग का विरोध किया और छात्रों को छोड़ने की बात कही।

इसी विरोध से खफा होकर गौरव सूद व संजीव ने अमित को पकड़ लिया और विकास चौहान ने उसके पेट में चाकू से वार कर दिया। मुनीष और अजय डोहरू पर भी आरोपियों ने खुखरी से वार कर उन्हें घायल कर दिया।

घायलों को तत्काल पालमपुर अस्पताल भर्ती कराया गया, जहां से अमित ठाकुर को सीएमसी लुधियाना रेफर कर दिया गया। मुनीष और अजय का पालमपुर अस्पताल में ही उपचार किया गया। घटना के 21 दिन बाद 11 सितंबर 2003 को अमित ठाकुर की सीएमसी लुधियाना में मौत हो गई, जिस पर पुलिस ने धारा 302 के तहत मामला दर्ज कर चालान न्यायालय में पेश किया था।

पुलिस ने पांचों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया था। सोमवार को न्यायाधीश ने गौरव सूद, सौरभ सूद, विकास चौहान और सचिन को दोषी करार देते हुए सजा सुनाई। पांचवें आरोपी संजीव के घटना के समय नाबालिग होने के चलते उसका मामला जुविनल बोर्ड के समक्ष विचाराधीन है।

मृतक के पिता ने चीफ जस्टिस को लिखा था पत्र

मृतक अमित ठाकुर के पिता को उस समय न्याय की आस जगी, जब हिमाचल हाईकोर्ट ने अमन सत्या काचरू रैगिंग मामले में आरोपियों की जमानत रद्द करने के आदेश पारित किए। 3 अगस्त 2010 को मृतक अमित ठाकुर के पिता आईटीबीपी के सेवानिवृत्त रविंद्र ठाकुर ने प्रदेश हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को पत्र लिखकर इस मामले के पांचों आरोपियों की जमानत रद्द करने की गुहार लगाई थी।

मैं कोर्ट के इस फैसले से खुश नहीं हूं। मैंने अपना बेटा खोया है। दोषियों को सख्त से सख्त सजा मिलनी चाहिए, तभी मुझे संतुष्टि होगी।जयश्री ठाकुर, मां, अमित ठाकुर

Awards to encourage youth instituted

This slideshow requires JavaScript.

Shimla, August 30
The state government has decided to institute awards to encourage youth clubs and individuals to work for various social causes and create mass awakening among people on important issues.

Announcing the State Youth Award Scheme while presiding over the meeting of the State Youth Board, here today, Chief Minister Prem Kumar Dhumal said the awards would be given from the current financial year in recognition for outstanding performance in creating mass awareness in the areas of environment protection, disaster management, family planning, AIDS control, organic farming, dairy farming, floriculture, water conservation and prohibition.

Underlining the role of youth in nation building, he said the government instituted awards with a view to motivating youth so that they came forward to play an active part in the implementation of various programmes. The best youth club in the state would be awarded a cash prize of Rs 1 lakh, the second best Rs 60,000 and the third best Rs 40,000. In the individual category, the first prize would be of Rs 25,000, second of Rs 15,000 and third of Rs 10,000. He said committees headed by Principal Secretary Youth Services and Sports at the state-level and Deputy Commissioners at the district-level would select the winners.

The government proposed to provide training in various activities like organic farming, dairy farming, floriculture, water conservation, mushroom cultivation, horticulture and bee keeping on experimental basis for which 40 youths would be selected from every district.

Based on the success of the programme, more youth would be selected to undertake training to help them undertake self-employment ventures. He said 664 playgrounds had been developed over the past two years to promote sports in the rural areas of the state.

Man gets 5-yr jail for murder

This slideshow requires JavaScript.

Hamirpur, August 30
Additional District and Sessions Judge at Hamirpur Rattan Singh Thakur has sentenced a person to five-year rigorous imprisonment for killing a person.

In his judgment, he held Vijay Kumar, a resident of Tal Nawar village in Gorakhpur district of Uttar Pradesh, guilty of killing Subhash Chand also hailing from Uttar Pradesh.

According to the prosecution’s version on March 8, this year, Vijay Kumar had gone to demand money borrowed by Subhash Chand. The accused had pushed the deceased who was standing on the slab of a house near Pucca Bharo, near Hamirpur, injuring him seriously and he died later.

Vijay Kumar has been sentenced for five years rigorous imprisonment along with a fine of Rs 10,000 under Section 304(A) of the IPC.

3.95 लाख की ठगी कर फरार

शहर के तीन लोगों को एक व्यक्तितीन लाख 95 हजार रुपए की चपत लगाकर फरार हो गया है। इस मामले में सोलन थाना में अशोक दास नाम के एक व्यक्ति के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। पुलिस ठग की तलाश कर रही है। ठग ने सुनियोजित ढंग से पहले लोगों को अपने विश्वास में लिया और विश्वास होने पर उन्हें लाखों की चपत लगाई। ठगी का शिकार हुए अप्पर बाजार सोलन में मैसर्ज हिमाचल गिफ्ट इंपोरियम के मालिक रवि शील ने पुलिस में रपट लिखाई है कि एक माह पहले उसके शोरूम पर अशोक दास नाम का व्यक्ति आया था, जिसने खुद को रिटायर्ड फौजी और सोलन चर्च के पादरी एडविन दास का छोटा भाई बताया।

इसके बाद वह रोजाना दुकान पर आने लगा। 24 अगस्त की शाम को वह दुकान पर आया और जिप्सी के लिए 1 लाख पांच हजार रुपए लिए और 26 अगस्त को जिप्सी लेकर आने की बात कही। जब वह नहीं आया तो उसके मोबाइल पर संपर्क किया। उसका अभी कुछ पता नहीं है।

%d bloggers like this: