Home » Crime

Category Archives: Crime

नकदी और जेवरात ले उड़े चोर

सोलन में शुक्रवार देर शाम एक घर में सेंध लगाकर चोर घर में रखी नकदी और जेवरात ले उड़े। पुलिस थाना में दर्ज शिकायत में चिनार कॉटेज पास आईटीआई सोलन निवासी रणदीव वर्मा ने कहा कि शुक्रवार देर शाम वह परिवार सहित डिनर पर एक रेस्तरां में गए थे। वहां से लौटने पर पाया कि उनके घर का ताला टूटा हुआ है। अलमारी से सोने-चांदी के जेवरात, वर्मा व उनकी पच्ी का पासपोर्ट, पैन कार्ड, क्रेडिट कार्ड, एक कैमरा व 30 हजार रुपए की नकदी कोई चुराकर ले गया। पुलिस ने रणदीव वर्मा की शिकायत पर मामला दर्ज कर चोरों की तलाश शुरू कर दी है।

Advertisements

लूट के पैसों से खरीदी सफारी



आखिर सोलन पुलिस बहुचर्चित वाकनाघाट ज्वैलर लूट कांड का पर्दाफाश हो गया है। 25 लाख की इस लूट में हाल ही में सोलन शहर की चोरियों में पकड़े गए शिमला निवासी पवन कुमार की गैंग का ही हाथ होना पाया गया है। पुलिस ने गैंग की निशानदेही पर लूट का कुछ सामान बरामद भी कर लिया है। गैंग के सरगना पवन कुमार के पास से बरामद हुई सफारी गाड़ी ज्वैलर सुफल सूद से लूटी गई धनराशि से ही खरीदी गई थी। यह खुलासा गैंग के सदस्यों ने पुलिस पूछताछ के दौरान किया है। एसपी हरदेश बिष्ट ने कहा कि वाकनाघाट में सुफल सूद के घर से हुई लूट में पवन कुमार गैंग का ही हाथ था। पूछताछ में इन्होंने लूट के बारे में पूरा खुलासा कर दिया है। कुछ ज्वैलरी रिकवर कर ली है जिसे सुफल सूद ने पहचान लिया है। गैंग से रिकवर हुई सफारी गाड़ी इसी लूट के पैसों से खरीदी गई है। पुलिस अभी और सामान की रिकवरी कर रही है।

Aman’s killers get 4-year jail

 

 Judgment delivered speedily in ragging-death case at medical  college near Dharamsala

Dharamsala, November 11
After a 15-month trial, a local court today sentenced to four-year rigorous imprisonment all four accused medical students in the infamous Aman Kachroo ragging and death case.

Additional District and Sessions Judge (Kangra) Purinder Vaidya pronounced the judgment after convicting the accused under Section 304 of the IPC (culpable homicide not amounting to murder). Also, they were sentenced to three-month jail under Sections 352 (criminal trespassing) and 34 (common intention) and one month under 342 (wrongful confinement) of the IPC. All the sentences would, however, run concurrently.

Besides, a fine of Rs 10,000 was slapped on the convicts — Abhinav Verma, Mukul Sharma, Navin Verma and Ajay Verma — failure to pay which would invite an additional imprisonment of six months. The charge under Section 302 (murder) of the IPC was, however, dropped due to the lack of evidence.

The Judge said the ragging menace had to be dealt with sternly so that no such incidents were repeated.

Notably, it was at 2 am on the intervening night of March 6/7 that the accused told all the first-year students to come out of their rooms at the hostel of Rajendra Prasad Medical College and Hospital in Tanda. After telling the juniors to line up in the gallery, one of the four seniors slapped Aman on the left side of his face, it was learnt. Aman rushed back to his room, saying his left ear had started bleeding. But the seniors forced their way into the room and brought him back, this time hitting Aman on the right side. They apparently chose Aman first as the latter had already complained to the college authorities once about the seniors.

The next day (March 7), Aman showed himself to an ENT doctor. He also filed a written complaint with the college principal against the four seniors. In the meantime, his father Rajinder Kachroo, too, called up the Himachal Pradesh Health Minister who, in turn, rang up the principal. An inquiry was initiated.

At around 7 pm on the same day, Aman reportedly went into a shock at the hostel. He was taken to the hospital where doctors declared him dead at about 7:20 pm. It was Aman’s complaint against the four accused that later served as the basis for the case.

During the arguments today, prosecution counsel demanded that the convicts be given the maximum 10-year punishment, as permissible under the sections they were convicted, saying the judgment should act as a deterrent for the society against ragging. The accused forced their entry into the victim’s room and beat him mercilessly also displayed their intention, the counsel argued.

On the other hand, the defence counsels demanded probation for the three accused, including Abhinav Verma, Mukul Sharma and Navin Verma, on the plea that they were below 21 years of age when the crime was committed. They even quoted the e-mail of Aman’s father Rajinder Kachroo in which he said: “I feel the administration of Tanda medical college is more responsible for the death of his son rather than the four accused in the case.”

For lowering the quantum of punishment, the defence even cited the “good conduct” of the trio in jail.


…A family torn apart: Photos from the Kachroo’s family album.
Clockwise from top: The Kachroo family in happier days, Aman with friends
and as a young boy

 Aman Kachroo case 

A first-year student at Tanda medical college in Himachal, Aman beaten up during ragging; dies on March 7, 2009

 THE CASE 

Criminal case registered against four of his seniors (shown below) on the basis of a complaint lodged with the college authorities by Aman before his death

 THE VERDICT 

Four-year RI under Section 304 (culpable homicide not amounting to murder). Additional four months under other sections, which would run concurrently

 Prosecution plea…  Accused be sentenced to 10 years in jail, a sentence that would serve as a deterrent for the society against ragging

 Demand of defence…  Three accused — Abhinav, Mukul, Navin — be let off on probation as they were under-21 at the time of the crime

ऑनर किलिंग का मामला : मौत के बाद सेहरा, बारात गई श्मशान

 

शिमला. फिरोजपुर . राकेश रविवार को घर से निकला था तो उसके दिल में अपनी प्रेमिका पूजा को दुल्हन बनाकर घर लाने के अरमान थे। लेकिन राकेश और पूजा को प्यार की कीमत जान देकर चुकानी पडी। झूठी इज्जत के लिए हुए इन हत्याओं के बारे में गांव वालों का कहना है कि राकेश और पूजा की हत्याएं पूजा की मां ने अपने अवैध संबंधों को छुपाने के लिए करवाई हैं।

घटना बेशक रोंगटे खड़े कर देने वाली थी। गांव के लोगों की आंखों मंे आंसू थे। आमतौर पर प्रेम संबंधों में विलेन बनने वाले गांववाले इस दुखद प्रेम कहानी के साथ खड़े हुए। गांव के एक आदमी का कहना था दोनों जीते जी न मिल सके लेकिन कम से कम भगवान के घर तो मिल जाएं।

इसलिए दोनों लाशें पूरे रीति-रिवाज के साथ तैयार कर एक ट्रॉली में रखी गई। मृतक राकेश के सिर पर दूल्हे का सेहरा पहनाया गया। इसके बाद ‘बारात’ श्मशान भूमि की ओर निकल पड़ी। बैंड-बाजों की जगह दोनों के परिजनों की चीखें थी। शमशान पहुंचने पर दोनों प्रेमियों का अलग चिताओं पर संस्कार कर दिया गया।

काश यह शादी जीते जी हो जाती : सरपंच भगवान सिंह ने बताया कि करीब दो वर्ष से चल रहे इन दोनों के प्रेम संबंधों से न केवल इनके परिवार, बल्कि पूरा गांव वाकिफ था। करीब दो माह पूर्व राकेश पूजा के प्रेम संबंधों को लेकर दोनों परिवारों में कुछ कहासुनी हुई तो पंचायती तौर पर इनकी शादी करवाने का निर्णय लिया गया। यह दोनों परिवारों ने माना भी था। इसके लिए दिसंबर माह की कोई तारीख भी तय होने जा रही थी, लेकिन होनी को कुछ और ही मंजूर था।

गांववालों ने कहा, पूजा की मां परमजीत कौर के उसके पति के मौसेरे भाई बिल्ला के साथ अवैध संबंध थे। शादी करवाने के बाद कहीं राकेश व पूजा इन दोनों की पोल न खोल दें, इसी डर से बिल्ला व परमजीत कौर ने एक योजनाबद्ध ढंग से राकेश व पूजा को ठिकाने लगा दिया। थाना सदर पुलिस ने राकेश के पिता रूप के बयान पर परमजीत कौर, बिल्ला और उनके एक अन्य साथी गुरभेज के विरुद्ध मामला दर्ज कर उन्हें हिरासत में ले लिया है।

एटीएम तोड़ने वाला गिरफ्तार

सोलन। शहर की माल रोड पर एक बैंक के एटीएम को तोड़कर चोरी करने का प्रयास करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस अधीक्षक हृदेश बिष्ट की ओर से जारी बयान में यह जानकारी दी गई।
पुलिस अधीक्षक ने बताया कि शनिवार को स्टेट बैंक आफ पटियाला शाखा बाघा के प्रबंधक नरेंद्र शर्मा ने शिकायत की कि वीरवार को वह अपने स्टाफ के साथ बैंक को बंद करके अपने घर चले गए। शुक्रवार सुबह पता चला कि बैंक के एटीएम से चोरी करने का प्रयास किया गया। मौके पर जाकर जब एटीएम की जांच की गई तो उसका दरवाजा भी तोड़ा गया था और मशीन को भी नुकसान पहुंचाया गया था। पुलिस ने मौके का मुआयना किया और मामला दर्ज कर लिया।
उन्होेंने बताया कि पुलिस ने तत्परता से कार्रवाई करते हुए प्रवीण कुमार, पुत्र चंदूराम, निवासी गांव दिभावनी, डाकघर-धार, जिला बिलासपुर को गिरफ्तार कर लिया गया है। विदित रहे कि सपरून निवासी राजेंद्र सिंह ने तीन नवंबर को पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि उनके घर से सोने के टाप्स, अंगूठी और ११०० नकद चोरी हो गए हैं। पुलिस ने मामला दर्ज कर कुछ ही घंटे में सरकारघाट निवासी आरोपी रणजीत राणा को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से चोरी हुआ सामान बरामद करने का दावा किया था। अब वीरवार को स्टेट बैंक आफ पटियाला शाखा के एटीएम तोड़ने वाले आरोपी प्रवीण कुमार, पुत्र चंदूराम, निवासी गांव दिभावनी, डाकघर-धार, जिला बिलासपुर को गिरफ्तार करने का दावा किया गया है। ऐसे में लोगों की बीच चरचा है कि चोरी के आरोपियों को पुलिस कुछ घंटे के भीतर इसलिए तो गिरफ्तार नहीं कर रही है क्योंकि पकड़े जा रहे चोर भी पहले से ही गिरफ्तार चोर गिरोह के सदस्य हाें। किसी भी चोरी की वारदात होने पर पहले से ही गिरफ्तार चल रहे सरगना पवन कुमार, नरेश, सुनील और सोलन निवासी आरोपी प्रगतिशील से पूछताछ के बाद उनके गिरोह के अन्य आरोपियों को भी पकड़ा जा रहा हो। बाघा और सपरून में पकड़े गए दो चोरों को लोग इसी कड़ी से जोड़कर देख रहे हैं। हालांकि पुलिस अधीक्षक हृदेश बिष्ट ने अभी इस बारे में अधिक बताने से इंकार किया है।

शहर में दो कार्यालयों के टूटे ताले, लेपटॉप चोरी



चोर गिरोह की गिरफ्तारी के बाद भी शहर में चोरी की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही है। मंगलवार रात चोरों ने आईटीआई रोड स्थित संजय कॉम्प्लेक्स में दो दैनिक समाचार पत्रों के कार्यालयों के ताले तोड़ दिए। एक कार्यालय की अल्मारी में रखा लेपटॉप चोरी कर लिया। उधर, मंगलवार को रबौण में हुई चोरी के आरोप में एक युवक को गिरफ्तार किया है। एसपी सोलन हरदेश बिष्ट ने बताया कि रबौण निवासी राजेंद्र कुमार ने रिपोर्ट दर्ज करवाई थी कि उसके घर से मंगलवार को ताला तोड़ कर सोने के टॉपस, अंगूठी व 1100 रुपए चोरी हो गए हैं। पुलिस ने इस मामले मे सरकाघाट निवासी एक छात्र रणजीत सिंह को गिरफ्तार कर लिया। उससे चोरी का सामान बरामद भी कर लिया गया है। शहर की वारदातों में चोरी हुए जेवरात बरामद करने के लिए पुलिस विभिन्न स्थानों पर छापे मार रही है। पुलिस अब तक चंडीगढ़ के ज्वेलर से करीब 20 तोला सोना बरामद किया है।

दो दिन पूर्व पुलिस ने परवाणू की एक फांइनेंस कंपनी से 27 तोला सोना रिकवर किया है।

स्कूल बस चालक की कनपटी पर तानी रिवॉलवर

पांवटा साहिब . पांवटा-नाहन रोड पर कोलर के पास पंजाब के चार युवकों ने डीएवी स्कूल पांवटा की बस को रोका और चालक की कनपटी पर रिवाल्वर तान दी। इसके बाद उन्होंने चालक-परिचालक से करीब आधा घंटा मारपीट की। इस दौरान बच्चे रोते रहे। वहां पहुंचे स्थानीय लोगों ने युवकों पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया।

बस चालक गुलजारी और परिचालक खेमचंद ने पुलिस में दर्ज शिकायत में कहा है कि बुधवार शाम को स्कूल की छुट्टी के बाद वे बस लेकर कोलर जा रहे थे। इसी बीच पीछे एक स्कॉरपियो गाड़ी में सवार चार युवकों ने अपनी गाड़ी उनकी बस के आगे लगा दी और बस में चढ़ गए।

दो युवकों ने परिचालक को पीटना शुरू कर दिया और दो ने चालक की कनपटी पर रिवॉल्वर तान दी। चालक ने जब उनसे मारपीट का कारण पूछा तो उन्होंने उसे भी पीटना शुरू कर दिया। युवकों ने चालक-परिचालक से आधे घंटे तक मारपीट की।

बस में सवार बच्चों के रोने की आवाज सुनकर गांव के लोग वहां पहुंचे। ग्रामीणों को देखकर चारों युवक मौके से भागने लगे तो ग्रामीणांे ने उन्हें पकड़ लिया। इसकी सूचना पुलिस को दी गई। माजरा पुलिस चौकी ने युवकों को गिरफ्तार कर लिया है।

‘हम पास मांग रहे थे’

पुलिस की पुछताछ में युवकों ने कहा कि वे बस से पास मांग रहे थे, लेकिन बस चालक ने पास नहीं दिया जिस कारण उन्होंने मारपीट की। डीएवी स्कूल के प्रधानाचार्य लवानिया ने बताया कि चालक व परिचालक के साथ युवकों ने मारपीट भी की और उन पर रिवॉल्वर तानकर मारने का प्रयास भी किया है। उनके स्कूल के बच्चों के अभिभावकों के फोन भी आए हंै। घटना के बाद कई बच्चे डरे हुए है। थाना प्रभारी भीष्म ठाकुर ने मामले की पुष्टि की है।

%d bloggers like this: